1 Best Essay on Bhimrao Ambedkar in Hindi | भीमराव अम्बेदकर पर निबंध

हैल्लो दोस्तों कैसे है आप सब आपका बहुत स्वागत है इस ब्लॉग पर। हमने इस आर्टिकल में Essay on Bhimrao Ambedkar in Hindi पर 1 निबंध लिखे है जो कक्षा 5 से लेकर Higher Level के बच्चो के लिए लाभदायी होगा। आप इस ब्लॉग पर लिखे गए Essay को अपने Exams या परीक्षा में लिख सकते हैं

क्या आप खुद से अच्छा निबंध लिखना चाहते है – Essay Writing in Hindi


Contents

डॉ. भीमराव अम्बेदकर परिचय Bhimrao Ambedkar Introduction

बेमिसाल, भारत का लाल! दलितों का मसीहा, महान विधिवेत्ता एवं मान-निर्माता, बाबा अम्बेदकर ऐसे युग पुरुष थे, जिन्होंने जीर्ण-संकीर्ण जिक कुप्रथाओं पर कुठाराघात कर हमें मानवता का पाठ पढ़ाया।

डॉ. भीमराव अम्बेदकर का जन्म

इस दलित-उद्धारक का जन्म मध्यप्रदेश स्थित महू सैनिक छावनी में 14 अप्रैल 1891 को हुआ था। इनका पूरा नाम ‘बाबा साहेब भीमराव अम्बेदकर’ भा। इनके पिता का नाम रावजी एवं माता का नाम भीमा बाई था।

शिक्षाBhimrao Ambedkar Education

ये बचपन से ही बहुत होनहार थे, प्रत्येक परीक्षा में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण होते थे। फलतः बड़ौदा के महाराज ने 1913 ई. में इन्हें एम. ए. करने हेतु कोलम्बिया विश्वविद्यालय भेजा। वहाँ भी ये प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण हुए। वहाँ से ये विलायत पीएच. डी. करने गए और सफल होकर वापस आए।

नौकरी-पेशा

ये जब भारत लौटे, तब महाराज ने इन्हें सैन्य-सचिव बनाया। इस प्रकांड विद्वान के लिए यह पद उचित न था, अतः कुछ वर्षों के बाद ये मुंबई आ गए और वहीं विश्वविद्यालय में प्रोफेसर बन गए। लेकिन, ईश्वर की इच्छा कुछ और थी; इनके कर-कमलों से सर्वोच्च विधि-ग्रन्थ लिखा जाना था, अतः ये मुंबई हाईकोर्ट में वकालत के पेशे से जुड़ गए। इस क्षेत्र में भी इन्होंने काफी नाम कमाया। कुछ वर्षों बाद जब भारत 1947 ई. में स्वतंत्र हुआ, तब ये विधि-मंत्री बनाए गए।

योगदान

भारत की शासन-व्यवस्था के लिए एक संविधान की आवश्यकता थी। विधि-ज्ञान में इनका कोई विकल्प न था, अतः इन्हें ‘संविधान प्रारूप समिति’ का अध्यक्ष बनाया गया। अपनी कुशाग्रबुद्धि, मेहनत और लगन के कारण इन्होंने विशाल भारतीय संविधान’ को मात्र 2 वर्ष, 11 महीने और 18 दिनों में ही पूरा कर देशवासियों को विस्मित कर दिया। शिक्षा के प्रचार-प्रसार के लिए इन्होंने मिलिन्द विश्वविद्यालय की स्थापना की; कई पुस्तकों की रचना भी की जिनमें ‘बौद्ध धर्म एंड हिज धाम’, ‘स्मॉल होल्डिग्स’, ‘कास्ट इन इंडिया’ आदि प्रमुख हैं।

उपसंहार

प्रत्येक क्षेत्र में अपने दायित्वों का सफलतापूर्वक निर्वाह करते हुए इन्होंने स्पृश्यता और दलितों पर हो रहे अत्याचार का मुखर विरोध किया। फलतः ऐसे अत्याचारियों की कुबुद्धि, सद्बुद्धि की राह पर लौटने लगी। लेकिन, हजारों वर्षों से चली आ रही इस घिनौनी कुप्रथा का पूर्ण अंत आसान न था, अतः इन्होंने हारकर 1955 ई. में बौद्ध धर्म स्वीकार कर लिया। अपनी मानसिक पीड़ा और क्लेश को ये झेल न सके और 1956 ई. में स्वर्ग सिधार गए। देश और समाज को जो कुछ इन्होंने दिया, उसे देखते हुए कहा जा सकता है :

वाह रे! गुदड़ी का लाल,
तूने कर दिया कमाल।


तो दोस्तों आपको यह Essay on Bhimrao Ambedkar in Hindi पर यह निबंध कैसा लगा। कमेंट करके जरूर बताये। अगर आपको इस निबंध में कोई गलती नजर आये या आप कुछ सलाह देना चाहे तो कमेंट करके बता सकते है।

जीवनी पढ़ें अंग्रेजी भाषा में – Bollywoodbiofacts

1 thought on “1 Best Essay on Bhimrao Ambedkar in Hindi | भीमराव अम्बेदकर पर निबंध”

Leave a Comment