3 Best Essay on Holi in Hindi | होली पर्व पर निबंध

हैल्लो दोस्तों कैसे है आप सब आपका बहुत स्वागत है इस ब्लॉग पर। हमने इस आर्टिकल में Holi in Hindi पर 3 निबंध लिखे है जो कक्षा 5 से लेकर Higher Level के बच्चो के लिए लाभदायी होगा। आप इस ब्लॉग पर लिखे गए Essay को अपने Exams या परीक्षा में लिख सकते हैं


10 lines on Holi in Hindi

  1. होली रंगों का त्योहार है।
  2. जिसे हर वर्ष फाल्गुन के महीने में हिंदू धर्म के लोग बड़ी धूमधाम से मनाते हैं।
  3. होली का पर्व मार्च (March) महीने में मनाया जाता है।
  4. उत्साह से भरा यह त्यौहार हमारे लिए एक दूसरे के प्रति निकटता लाती है।
  5. इसमें लोग आपस में मिलते जुलते हैं।
  6. और एक दूसरे को रंग और अबीर लगाते हैं।
  7. इस दौरान सभी मिलकर ढोलक हारमोनियम तथा करताल की धुन पर फागुन गीत गाते हैं।
  8. इस दिन पर हम लोग खासतौर से बने पकवान तथा दही बड़े आदि खाते हैं।
  9. होली उत्सव के एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है।
  10. हर समुदाय के लोग होली का पर्व मानते है।

Essay on Holi in Hindi (200 Words)

होली हिन्दुओं का एक प्रसिद्ध त्योहार है। होली का त्योहार बसंत के मौसम में मनाया जाता है। बसंत ऋतु के प्रारंभ होते ही तरह-तरह के फूल खिल उठते हैं तथा पेड़ों पर नए पत्ते उग आते हैं। होली को रंगों को त्योहार कहते हैं। लोगों के दिलों में एक उमंग तथा आनंद रहता है। लोग अपने सगे सम्बन्धियों के गालों पर रंग और गुलाल मलते हैं। इस दिन लोग नाच-गाना भी करते हैं। लोग इस दिन एक दूसरे के गले भी मिलते हैं तथा एक दूसरे पर रंग छिड़कते हैं।

लेकिन कुछ लोगों ने इस त्योहार को गंदा बना दिया है। ऐसे लोग इस दिन कीचड़ तथा गंदा पानी एक दूसरे पर फेंकते हैं। कुछ लोग शराब भी पीते हैं तथा गाली-गलौज भी करते हैंतथा आपस में लड़ाई-झगड़ा भी करते हैं। ऐसे लोग त्योहार का मजा किरकिरा कर देते हैं। अन्य संप्रदायों के लोग भी इस त्योहार को हिंदुओं के साथ मिल कर मनाते हैं। इस त्योहार पर शराब तथा जुए को कानून द्वारा बंद करना चाहिए। होली का त्योहार शालीनता से मनाने का पर्व है, न कि होली का हुड़दंग करके शांति भंग करने का पर्व।


Essay on Holi in Hindi (400 Words)

भूमिका

होली पर्व है—आनन्द-उत्साह का, आमोद-प्रमोद का, हँसी-ठट्ठा का, रंग का और मौज-मस्ती का। फाल्गुन की पूर्णिमा की रात, होलिका दहन उपरांत दूसरे दिन होली हर्षोल्लास एवं सानन्द मनाई जाती है।

धार्मिक मान्यता

प्रत्येक पर्व या त्योहार के पीछे कोई-न-कोई धार्मिक मान्यता या घटना अवश्य होती है। कहा जाता है कि जब अत्याचारी हिरण्यकशिपु अपने पुत्र विष्णु भक्त प्रह्लाद को किसी भी उपाय से मार न सका, तब उसने अपनी बहन होलिका द्वारा उसकी हत्या का षड्यंत्र रच डाला। होलिका को वरदान स्वरूप एक ऐसी चादर मिली थी, जिसे ओढ़ने के बाद कोई भी व्यक्ति आग में जल नहीं सकता था।

होलिका जलती आग में अबोध प्रह्लाद को गोद में लेकर बैठ गई। किंतु, वाह रे ! प्रभु की लीला ! प्रह्लाद तो नहीं जला, लेकिन होलिका जलकर राख हो गई। उसी दिन से इस तिथि को, पाप पर पुण्य की विजय के उप लक्ष्य में, वसंतोत्सव के रूप में, होली का यह मदनोत्सव बड़े धूम-धाम से मनाया जाता है।

आयोजन

वैसे तो यह पर्व अपने आने की पूर्व सूचना सरस्वती-पूजा के दिन लोगों के गाल और कपाल पर अबीर-गुलाल की रंगीन छटा के रूप में दे जाता है, लेकिन होलिका दहन के उपरांत अगले दिन यह पर्व अपनी पूर्ण जवानी के आगोश में लेकर, क्या बूढ़े, क्या जवान, क्या बच्चे, क्या नादान, सभी को रंगीन रंगों से हसीन बना देता है। बच्चे तो एक सप्ताह पहले से ही इस रंगीन पर्व का मजा लूटने में अपनी सुध-बुध खो बैठते हैं।

अधिकतर लोग रंग और गुलाल का मजा लूटते हैं, लेकिन कुछ लोगों को कीचड़ और नाली के गंदे पानी से भी होली खेलने में आनन्द आता है। इस पर्व में मीठेमीठे पकवान अपनी सुगंध से आस-पास के वातावरण को सुंगधित बना देते हैं। लोग इस मधुर पकवानों को बड़े प्रेम से खाते और खिलाते हैं। कुछ लोग होली के रसीले गीतों पर झूम उठते हैं। मौज-मस्ती का ऐसा आलम दिखाई देता है, मानों सभी को कुबेर का खजाना मिल गया हो।

महत्त्व

यह पर्व नीरस जीवन में रस का संचार करता है। जीवन पर छाई दुःख और विषाद की कालिमा, हर्षोल्लास की लालिमा में परिवर्तित हो जाती है। लोग साल भर की दुश्मनी भूलकर एक-दूसरे के गले लग जाते हैं। ऊँचनीच, अमीर-गरीब, छोटे-बड़े के सारे भेद मिट जाते हैं।

उपसंहार

यह पर्व हँसी-खुशी का पर्व है। लेकिन, कुछ लोग इस अवसर पर अधिक शराब या मदिरा का सेवन कर लेते हैं, जिसके कारण रंग में भंग पड़ जाता है। गलत ढंग से होली खेलने के कारण कुछ लोग एक-दूसरे से झगड़ लेते है। हमें इन बातों का खयाल रखते हुए सौहार्दपूर्ण वातावरण में होली मनानी चाहिए।


तो दोस्तों आपको यह Holi in Hindi पर यह निबंध कैसा लगा। कमेंट करके जरूर बताये। अगर आपको इस निबंध में कोई गलती नजर आये या आप कुछ सलाह देना चाहे तो कमेंट करके बता सकते है।

जीवनी पढ़ें अंग्रेजी भाषा में – Bollywoodbiofacts

1 thought on “3 Best Essay on Holi in Hindi | होली पर्व पर निबंध”

Leave a Comment